arrival of european companies in india || भारत में यूरोपीय कंपनियों का आगमन

arrival of european companies in india भारत में यूरोपीय कंपनियों का आगमन

भारत में यूरोपीय कंपनियों का आगमन

भारत की प्राचीन सांस्कृतिक विरासत, आर्थिक संम्पन्नता, आध्यात्मिक उपलब्धियां, दर्शन, कला आदि से प्रभावित होकर मध्यकाल में बहुत से व्यापारियों एवं यात्रियों का यहाँ आगमन हुआ । यूरोपीय शक्तियों में पुर्तगाली कंपनी ने भारत में सबसे पहले प्रवेश किया । भारत के लिए नए समुद्री मार्ग की खोज पुर्तगाली व्यापारी वास्कोडिगामा ने 17 मई 1498  को भारत के पश्चिमी तट पर अवस्थित बंदरगाह कालीकट पहुँच कर की । वास्कोडिगामा का स्वागत कालीकट के तत्कालीन शाशक जमोरिन (यह कालीकट के शाशक की उपाधि थी) द्वारा किया गया । पुर्तगालियों के भारत आगमन से भारत एवं यूरोप के मध्य व्यापार के क्षेत्र में एक नए युग का सूत्रपात हुआ ।भारत में कालीकट, दमन,दीव एवं हुगली के बंदरगाहों में पुर्तगालियों ने अपनी व्यापारिक कोठियों की स्थापना की । भारत में प्रथम पुर्तगाली फैक्ट्री की स्थापना 1503 ई. में कोचीन में की गई.

पुर्तगालियों के पश्चात डच भारत में आये । ये नीदरलैंड या हालैंड के निवासी थे । 1596 ई. में कर्नेलिस डि हाऊटमैन (Cornelis de Houtman) भारत आने वाला प्रथम डच नागरिक था । डचों ने सन 1602 ई. में एक विशाल व्यापारिक कंपनी की स्थापना ‘यूनाइटेड ईस्ट इंडिया कंपनी ऑफ़ नीदरलैंड’ की स्थापना की । इसका गठन विभिन्न व्यापारिक कंपनियों को मिलाकर किया गया था ।

डेनमार्क की ‘ईस्ट इण्डिया कम्पनी’ की स्थापना 1616 में हुई थी। इस कम्पनी ने 1620 में त्रैंकोवार (तमिलनाडु) तथा 1667 ई. में सेरामपुर (बंगाल) में अपनी व्यापारिक कंपनियाँ स्थापित कर लीं। सेरामपुर डेनों का एक प्रमुख व्यापारिक केन्द्र था। 1854 में डेन लोगों ने अपनी वाणिज्य कंपनी को अंग्रेज़ों को बेच दिया।

संन 1664 ई. में फ्रांस की सम्राट लुइ 14वें की समय उनके मंत्री कोल्बर्ट की प्रयासों से फ़्रांसीसी व्यापारिक कंपनी ‘कंपनी द इंड ओरिएंटल’ (कंपनी देस इंडस ओरिएंटल) की स्थापना हुई । सूरत में 1668 ई. में फ्रांसीसियों की प्रथम कोठी ई स्थापना फ्रैंक कैरो द्वारा की गई ।डचों ने 1639 ई. में पांडिचेरी को फ्रांसीसियों के नियंत्रण से छीन लिया किन्तु 1697 ई. के रिज्विक समझौते के अनुसार उसे वापस कर दिया ।  1742 ई. के पश्चात व्यापारिक लाभ कमाने के साथ साथ फ्रांसीसियों की राजनितिक महत्त्वकांक्षाए भी जाग्रत हो गई । परिणामस्वरुप अंग्रेज और फ्रांसीसियों के बीच युद्ध छिड़ गया । इन युद्धों को ‘कर्नाटक युद्ध’ के नाम से जानते है ।

महत्वपूर्ण तिथियां
1498 वास्कोडिगामा का भारत आगमन।
1500 द्वितीय पुर्तगाली यात्री कैब्राल का भारत आगमन।
1502 दूसरी बार वास्कोडिगामा का भारत आगमन।
1510 गोवा पर पुर्तगालियों का अधिकार।
1530 कोचीन की जगह गोवा पुर्तगालियों की राजधानी बानी।
1599 ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना।
1602 डच ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना।
1661 पुर्तगालियों ने ब्रिटेन के राजा को बम्बई दहेज़ में दिया।
1664 फ़्रांसिसी ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापाना।
1690 जॉब चारनौक द्वारा कलकत्ता की स्थापना।
1759 बेदरा का निर्णायक युद्ध जिसमे अंग्रेजों ने डचों को पराजित कर भारतीय व्यापार से बहार किया।
1760 वदिवाश का निर्णायक युद्ध जिसमे अंग्रेजों ने फ्रांसीसियों को पराजित कर भारतीय व्यापर से बाहर कर दिया।

 

विदेशी कंपनियों का आगमन
S.NO. कंपनी देश स्थापना गवर्नर स्थल
1. एस्तादो द इंडिया पुर्तगाल 1498 अल्मीडा कालीकट
2. ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ब्रिटेन 1600 सर टॉमस रो सूरत
3. डच ईस्ट इंडिया कंपनी हालैंड 1602 विर्निच ओ मसूलीपट्नम
4. डेन ईस्ट इंडिया कंपनी डेनमार्क 1616 डिहस्टमान सुतानाती
5. फ़्रांसिसी कंपनी फ़्रांस 1664 कलबर्ट/ मार्टिन सूरत

 

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य जो परीक्षा के दृश्टिकोण से अत्यंत महत्वपूर्ण है।

पुर्तगाली

  • पुर्तगालियों और स्पेन वासियों ने भौगोलिक खोजों का युग आरंभ किया
  • पुर्तगाली नाविक बारथोलोमियोडियाज ने 1487 में उत्तमाशा अंतरीप की खोज की
  • 1494 ईसवी में स्पेन के निवासी कोलंबस ने अमेरिका की खोज की
  • यूरोप वासियों में सर्वप्रथम पुर्तगाली भारत आए
  • 17 मई 1498 को अब्दुल मजीद नामक गुजराती पथ प्रदर्शक की सहायता से वास्कोडिगामा कालीकट बंदरगाह पहुंचा जहां के हिंदू राजा जिसकी पैतृक उपाधि जमोरिन थी उसका हार्दिक स्वागत किया
  • 1500 में पेट्रो अल्वारेज कैब्राल भारत पहुंचने वाला दूसरा पुर्तगाली था
  • 1502ई. में वास्कोडिगामा पुनः भारत आया
  • 1503 में पुर्तगालियों ने कोचिंग में अपनी पहली फैक्ट्री स्थापित की
  • 1505 में फ्रांसिस्को डी अल्मीडा प्रथम पुर्तगाली वायसराय बन कर भारत आया
  • अल्मीडा का मूल उद्देश्य शांतिपूर्ण व्यापार करना था उसकी यह नीति ब्लू वाटर पॉलिसी अर्थात शांत जल की नीति कहलाई
  • 1510 में अल्बूकर्क ने बीजापुर की आदिलशाही युसूफ सुल्तान से गोवा जीत लिया
  • अल्बूकर्क भारत में स्थाई पुर्तगीज आबादी बसाना चाहता था इसलिए उसने स्वदेश वासियों को भारतीय स्त्रियों से विवाह करने के लिए प्रोत्साहित किया
  • 1515 में प्रथम चर्च का निर्माण गोवा में किया गया जिसका नाम सेंट जेवियर चर्च था
  • पुर्तगाली भारतीय साम्राज्य को एस्तादो द इंडिया नाम से पुकारते थे
  • पुर्तगाली अपने आप को सागर के स्वामी कहते थे तथा कॉटेज-आरमेडा-काफिला पद्धति को अपनाते थे
  • 1560 ईस्वी में गोवा में इसाई धर्म न्यायालय की स्थापना की गई
  • पुर्तगालियों ने भारत में प्रिंटिंग प्रेस की शुरुआत की
  • पुर्तगाली मध्य अमेरिका से तंबाकू आलू और मक्का भारत लाए
  • अनानास पपीता बादाम काजू मूंगफली शकरकंद लीची और संतरा पुर्तगालियों की ही देन है
डच
  • डच नीदरलैंड (हॉलैंड) के निवासी थे
  • 1602 ईसवी में विभिन्न डच कंपनियों को मिलाकर यूनाइटेड ईस्ट इंडिया कंपनी ऑफ नीदरलैंड के नाम से एक विशाल व्यापारिक संस्था की स्थापना की गई
  • 1605 ईस्वी में मूसलीपटनम में प्रथम डच फैक्ट्री की स्थापना हुई
  • पुलीकट में डचो ने स्वर्ण सिक्के पैगोडा ढाला था
  • बंगाल (पिपली) में प्रथम डच फैक्ट्री की स्थापना 1627 ईस्वी में की गई थी
  • औरंगजेब ने 1664 ईस्वी में डचो को 3.5 प्रतिशत वार्षिक चुंगी पर बंगाल बिहार और उड़ीसा में व्यापार करने का अधिकार दिया
  • डच फैक्ट्रियों के प्रमुख को फैक्टर कहा जाता था
  • डच ने मसालों के स्थान पर भारतीय कपड़ों के निर्यात को अधिक महत्व दिया
  • भारतीय वस्त्रों को निर्यात वस्तु बनाने का श्रेय डचो को जाता है
  • 1759 ईस्वी में अंग्रेजों के साथ वेदरा के युद्ध मैं हार के फल स्वरुप डच का भारत से उनकी शक्ति समाप्त कर दी
अंग्रेज
  • भारत में अंग्रेजों का आगमन डचो के बाद हुआ
  • 1599 ई. में व्यापारियों ने पूर्व के देशों के साथ व्यापार करने के उद्देश्य से एक कंपनी का गठन किया जिसका नाम गवर्नर एंड कंपनी ऑफ मरचेंट्स ऑफ लंदन ट्रेडिंग इन टू द ईस्ट इंडीज रखा गया
  • इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ प्रथम ने 31 दिसंबर 1600ई. में एक आज्ञा पत्र के द्वारा इसे 15 वर्षों के लिए पूर्वी देशों के साथ व्यापार करने का एकाधिकार प्रदान किया
  • भारत में व्यापारिक कोठिया स्थापित करने का प्रथम प्रयास अंग्रेजो के द्वारा 1608 ई. में प्रारंभ किया गया
  • कैप्टन हॉकिंस के नेतृत्व में हेक्टर नामक प्रथम अंग्रेजी जहाज 1608 ई. में सूरत के बंदरगाह पर पहुंचा
  • हॉकिंस प्रथम अंग्रेज था जिसने समुद्र के रास्ते भारत की भूमि पर कदम रखा था
  • हॉकिंस जेम्स प्रथम का पत्र लेकर मुगल बादशाह जहांगीर के दरबार में पहुंचा था
  • 1613ई में अंग्रेजों ने सूरत में एक स्थाई कारखाना स्थापित किया इसके पहले 1611 ईसवी में मूसलीपटनम में अंग्रेजों ने व्यापारिक कोठी स्थापित की थी
  • 1639 ईस्वी में फ्रांसिस डे नामक अधिकारी ने चंद्रगिरी के राजा से मद्रास को पट्टे पर लिया तथा वहां एक किलाबंद कोठी बनाई इस किलाबंद  कोठी का नाम फोर्ट सेंट जॉर्ज रखा गया
  • 1615 ईस्वी में सर टॉमस रो जहांगीर के दरबार में आया
  • 1661 ईस्वी में इंग्लैंड के राजा चार्ल्स द्वितीय का विवाह पुर्तगाली राजकुमारी कैथरिन के साथ हुआ इस अवसर पर पुर्तगालियों ने चार्ल्स को दहेज के रूप में मुंबई द्वीप प्रदान किया
  • 1668 में चार्ल्स द्वितीय ने मुंबई को 10 पाउंड के वार्षिक किराए पर कंपनी को सौंप दिया
  • मुंबई का गवर्नर गेराल्ड अंगियार ही वास्तव में मुंबई का संस्थापक था
  • न्यू कंपनी, जनरल सोसाइटी तथा इंग्लिश कंपनी ट्रेडिंग इन द ईस्ट नामक कंपनियां 1708 ई. में मूल कंपनी से संयुक्त होकर एक नई कंपनी द यूनाइटेड कंपनी ऑफ मरचेंट्स ऑफ लंदन ट्रेडिंग टू द ईस्ट इंडीज का जन्म हुआ यह नाम 1833 ईस्वी तक कायम रहा 1833 ईस्वी के चार्टर एक्ट के द्वारा इसका संक्षिप्त नाम ईस्ट इंडिया कंपनी कर दिया गया
  • बंगाल के सूबेदार साहसुजा ने ₹3000 वार्षिक कर के बदले में कंपनी को बंगाल बिहार और उड़ीसा में मुक्त व्यापार करने की अनुमति प्रदान कर दी थी
  • जॉबचरनाक ने अगस्त 1690 ईसवी में सुतानाती में एक अंग्रेजी कोठी स्थापित की इस प्रकार ब्रिटिश भारत के भावी राजधानी कलकत्ता की नींव पड़ी
  • बंगाल के सूबेदार अजीम उस शान ने 1698 इसवी में अंग्रेजों को सूतानाती कालीकाता और गोविंदपुरी नामक 3 गांव की जमींंदारी प्रदान की।
  • हैमिल्टन ने बादशाह फारूक शेयर की एक दर्दनाक बीमारी छुड़ाने में सफलता प्राप्त की थी जिसके फल स्वरूप फारुखसियर ने 1717 ई. में एक फरमान जारी किया जिसके अंतर्गत ₹3000 वार्षिक कर के बदले में कंपनी को बंगाल में मुक्त  व्यापार करने की छूट मिल गई तथा ₹10000 वार्षिक किराए के बदले कंपनी को सूरत में सभी करों से मुक्ति मिल गई एवं मुंबई में कंपनी द्वारा ढाले गए सिक्कों को संपूर्ण मुगल राज्य में चलाने की आज्ञा मिल गई
  • इस अधिकार पत्र से अंग्रेजों को बहुत लाभ हुआ जिससे उनको पूरे भारत में अपनी शक्ति बढ़ाने का अवसर प्राप्त हो गया
डेन
  • अंग्रेजों के बाद डेन लोग 1616 ईस्वी में भारत आए
  • 1620 इसमें उन्होंने प्रथम फैक्ट्री त्रावणकोर में स्थापित की
  • 1745 ई. में उन्होंने अपने सभी फैक्ट्रियां ब्रिटिश कंपनी को बेच दी तथा वे भारत से चले गए
फ्रांसीसी
  • फ्रांस के सम्राट लुई 14वे के समय 1664 ईसवी में एक फ्रांसीसी व्यापारिक कंपनी कंपनी-द-एंड ओरिएंटल की स्थापना हुई
  • फ़्रांसीसीओं की पहली कोठी फ्रांसिस कैरों द्वारा सन 1668 ईस्वी में सूरत में स्थापित हुई
  • 1673 ईस्वी में फ्रांसिस मार्टिन और विलांग-द-लेष्पिने  ने वालीकोंडापुरम के मुस्लिम सूबेदार शेरखान लोधी से एक छोटा गांव प्राप्त कर एक फ्रांसीसी बस्ती स्थापित की जिसे पांडिचेरी के नाम से जाना जाता है.
  • बंगाल के सूबेदार शाइस्ता खान ने 1674 ईस्वी में फ्रांसीसीओं को एक जगह दी जहां फ्रांसीसीओं ने चंद्रनगर की स्थापना की तथा फ्रांसीसी कोठी बनाई
  • फ्रांसीसी गवर्नर डुप्ले के समय में फ्रांसीसी प्रभुत्व की स्थापना हुई
यूरोपीय व्यापारिक कंपनी से संबद्ध व्यक्ति
वास्कोडिगामा भारत आने वाला प्रथम यूरोपीय यात्री
कैब्राल भारत आने वाला द्वितीय पुर्तगाली
फ्रांसिस्को डी अल्मेड़ा भारत का प्रथम पुर्तगाली गवर्नर
जॉन मिड्लटन भारत आने वाला प्रथम ब्रिटिश नागरिक
कैप्टन हॉकिंस प्रथम अंग्रेज दूत जिसने सम्राट जहांगीर से भेट की
फ्रांसिस डे मद्रास का संस्थापक
चाल्र्स आयर फोर्ट विलियम (कलकत्ता) का प्रथम प्रशासक
जॉब चार्नोक कलकत्ता का संस्थापक
अँगियार बंम्बई का संस्थापक
फ्रैंको मार्टिन पांडिचेरी का प्रथम फ़्रांसिसी गवर्नर
कैरोंन फ्रैंक इसने भारत में प्रथम फ़्रांसिसी फैक्ट्री की सूरत में स्थापना की

 

BPSC PRE में पूछे गये प्रश्न जो इस टॉपिक से सम्बंधित से संबंधित हैं.
NO प्रश्न
1 निम्नलिखित में से प्रथम कर्नाटक युद्ध का कौन सा तात्कालिक कारण था फ्रांसीसी जहाजों का अधिग्रहण
2 पुर्तगाली उपनिवेश का प्रथम वायसराय भारत में कौन हुआ अलमेडा
3 निम्नलिखित में से किस अंग्रेज अधिकारी ने पुर्तगालियों को सॉली के स्थान पर हराया था थॉमस बेस्ट
4 निम्नलिखित अंग्रेजों में से किसे जहांगीर ने खान की उपाधि से सम्मानित किया था हॉकिंस
5 भारत में 1612 में अंग्रेजों ने अपनी फैक्ट्री कहां स्थापित की थी सूरत
अन्य परीक्षाओं में इस टॉपिक से सम्बंधित पूछे गए प्रश्न
NO प्रश्न उत्तर
1 बंगाल के निम्नलिखित फैक्ट्रियों में से एक जो पुर्तगाली के द्वारा स्थापित किया गया था वह कौन सा था हुगली
2 निम्नलिखित ब्रिटिश कंपनियों में से किसे भारत में व्यापार करने का पहला अधिकार पत्र प्राप्त हुआ था लीवेंट कंपनी
3 निम्नलिखित में से प्रथम कर्नाटक युद्ध का कौन सा तात्कालिक कारण था फ्रांसीसी जहाजों का अधिग्रहण
4 ईस्ट इंडिया कंपनी के किस अंग्रेज गवर्नर को औरंगजेब के द्वारा भारत से निष्कासित किया गया सर जॉन चाइल्ड
5 निम्नलिखित में से किसे भारत में फ्रांसीसी कंपनी का संस्थापक माना जाता है काल्वर्ट
6 लंदन में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के गठन के समय भारत का निम्नलिखित में से कौन सा बादशाह था अकबर
7 वास्कोडिगामा कालीकट पर किस वर्ष में आया 1498 AD
8 कर्नाटक युद्ध किन किन के मध्य लड़ा गया अंग्रेज तथा फ्रांसीसी
9 बंगाल में निम्न में से कौन सा कारखाना डच ने स्थापित किया था चिनसुरा
10 किस मुगल सम्राट के काल में इंग्लिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में सर्वप्रथम कारखाना स्थापित किया जहांगीर
11 पुर्तगाली उपनिवेश का प्रथम वायसराय भारत में कौन हुआ अलमेडा
12 निम्नलिखित में से कौन कोलकाता का संस्थापक था जॉब चरनॉक
13 निम्नलिखित में से किस ने वास्कोडिगामा का काल की कालीकट में स्वागत किया था जमोरिन
14 किन्हीं यूरोपियों ने भारत में प्रथमता सामुद्रिक व्यापारिक केंद्र स्थापित किए पुर्तगाली
15 भारत में फ्रांसीसीओं ने अपना सबसे पहला कारखाना निम्न स्थानों में से कहां लगाया सूरत
16 भारत में पुर्तगाली शक्ति का वास्तविक संस्थापक कौन था अल्बूकर्क
17 भारत के साथ व्यापार के लिए सर्वप्रथम संयुक्त पूंजी कंपनी किन लोगों ने आरंभ की डच
18 पुर्तगालियों ने भारत में निम्नलिखित में से किस स्थान पर प्रथम दुर्ग का निर्माण किया था कोचीन में
19 मध्य काल में सर्वप्रथम भारत से व्यापार संबंध स्थापित करने वाले थे पुर्तगाली
20 निम्नलिखित यूरोपियों में से कौन सा एक स्वतंत्रता पूर्व भारत में व्यापारी के रूप में सबसे अंत में आए फ्रांसीसी
21 ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने मुंबई किस से लिया था पुर्तगालियों से
ONLINE TEST / EXAM – टेस्ट देकर खुद का मूल्यांकन करे

टॉपिक को विस्तार से पढ़ने के बाद इससे सम्बंधित ऑनलाइन टेस्ट में हिस्सा लेकर स्वयं का मूल्यांकन करे । यहाँ सारे प्रश्न और Quiz Contest मुफ्त है और इसके लिए आपसे कोई शुल्क नहीं लिया जाता है । कृपया इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें जिससे इसका लाभ अन्य विद्यार्थियों को भी मिल सके।

 

इसे भी पढ़े :

Indus Valley Civilization || सिन्धु घाटी की सभ्यता

bpsc previous year question || science special

मुख्य परीक्षा का उत्तर कैसे लिखे

lokpal ( OMBUDSMAN ) लोकपाल

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!